जमा करदाताओं को रिफंड के लिए सरकार ने सहारा पोर्टल का उद्घाटन किया, सहारा रिफंड पोर्टल पर आवेदन कैसे करें: जानिए आवेदन प्रक्रिया

Share it

(Image Source: Google| Image By- The Economic Times) सहारा रिफंड पोर्टल पर आवेदन कैसे करें.

सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल का उद्घाटन: जमा करदाताओं को उनके पैसों को वापस प्राप्त करने की सशक्तिकरण

केंद्रीय सरकार ने सीआरसीएस-सहारा रिफंड पोर्टल की शुरुआत की है, जिसका उद्देश्य सहारा समूह सहकारी समितियों में जुड़े 10 करोड़ से अधिक जमा करदाताओं की मदद करना है। यह पहल केवलियों के राशि को वापस लेने की लंबे समय से चल रही मुद्दे को संबोधित करने और जमा करदाताओं को राहत प्रदान करने का प्रयास है।

कौन लाभान्वित हो सकते हैं पोर्टल से?

पहले से ही सहारा समूह की सहकारी समितियों में शामिल जमा करदाता अब सहारा रिफंड पोर्टल का लाभ उठा सकते हैं। विशेष पोर्टल में लॉग इन करके और ऑनलाइन आवेदन पत्र पूरा करके जमा करदाता अपनी दावे को प्रस्तुत कर सकते हैं। दावों को सुगम रिफंड प्रक्रिया के लिए, जमा करदाताओं को सभी आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करना, आधार-संबंधित मोबाइल नंबर रखना और वापसी प्रसंस्करण के लिए एक सही बैंक खाते का विवरण प्रदान करना आवश्यक है।

सहारा सहकारी समितियों के लिए दावों की सत्यापन प्रक्रिया को सहारा समूह करेगा, जिसे आवेदन के प्रस्तुति के 30 दिनों के अंदर पूरा किया जाएगा। सत्यापन प्रक्रिया के बाद, आवेदकों को 15 दिनों के भीतर एक संदेश या पोर्टल पर उनके दावे की स्थिति के बारे में सूचना मिलेगी।

दावों की प्रक्रिया के समय की अपेक्षा

सहारा रिफंड पोर्टल की प्रक्रिया के समय की अनुमानित अवधि लगभग 45 दिन है। इस अवधि में जमा करदाता अपने दावों की समयबद्ध वितरण की उम्मीद कर सकते हैं। महत्वपूर्ण नोट करना आवेदकों के लिए जरूरी है कि वे चार समितियों से संबंधित सभी दावों को एक ही आवेदन पत्र में समेकित करें, जिससे सटीकता और पूर्णता सुनिश्चित हो।

महत्वपूर्ण विशेषताएं और वापसी वितरण के चरण

सहारा रिफंड पोर्टल की एक अनोखी विशेषता है कि ऑनलाइन फॉर्म जमा करने के लिए कोई शुल्क नहीं है। इससे जमा करदाताओं पर वापसी प्रक्रिया के दौरान कोई आर्थिक बोझ नहीं पड़ेगा। प्रारंभिक चरण में, कुल राशि के रूप में 5000 करोड़ रुपये सहारा रिफंड पोर्टल के माध्यम से वितरित की जाएगी। हालांकि, प्रारंभिक वितरण की सफलता पर निर्भर करते हुए प्रत्येक जमा करदाता को इस चरण में एक प्रारंभिक राशि रूपये 10,000 मिलेगी।

यूनियन मंत्री अमित शाह ने बताया कि पहले चरण में लगभग 4 करोड़ जमा करदाता रूपये 10,000 तक प्राप्त करने के योग्य हैं। यदि यह चरण सफल साबित होता है, तो आगे की वितरण और अधिक उच्च राशि में फंसे जमा करदाताओं के दावों के समाधान के लिए और उच्च कदम उठाए जाएंगे।

सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल के उद्घाटन से सहारा समूह सहकारी समितियों से जुड़े जमा करदाताओं को वित्तीय न्याय प्रदान करने में एक महत्वपूर्ण कदम हुआ है। सुगम प्रक्रिया, उपयोगकर्ता के लिए सरल इंटरफेस और पारदर्शिता के प्रति प्रतिबद्धता के साथ, पोर्टल का उद्घाटन जमा करदाताओं को उनके मुश्किल से कमाए गए पैसों को वापस प्राप्त करने में सुगमता प्रदान करने का उद्देश्य रखता है। तकनीक का उपयोग करके और सख्त समयरेखा का पालन करके, पोर्टल यह सुनिश्चित करता है कि खर्चे करने योग्य जमा करदाताओं को एक संगठित समय में वापसी होगी। यह पहल ब्रह्मांड के जमा करदाताओं के लंबे समय से चल रहे वापसी मुद्दे को सुलझाने और उनके पैसों को लौटाने के लिए सरकार की समर्पणता को प्रदर्शित करती है।

और पढ़े: हिंदी न्यूज़ 


Share it
Scroll to Top